47 Chinese App Banned

तो दोस्तों आज की टेक न्यूज़ में हम आपको बताएंगे कि वह कौन सी 47 ऐप जो 59 ऐप के बैन होने के बाद यह चाइनीस एप्लीकेशन पूरे इंडिया से बैन कर दिया गया है।

आखिर में कौन-कौन से 47 ऐप को बैन किया गया है।

तो दोस्तों टिक टॉक शेयर इट और इसी ब्राउज़र जैसी हाई प्रोफाइल वाली 59Apps को बैन करने के बाद भारतीय सरकार द्वारा 47 ऐप को बैन कर दिया गया है, यानी कि अब टोटल 106 हैं जिन्हें आप भारत में इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं , नहीं यह आपको प्ले स्टोर पर मिलेगी और ना ही यह आपको एप स्टोर पर मिलेगी और ना ही इनके लिए इंटरनेट डाटा की एक्सेस दी जाएगी।

दरअसल यह 47 चाइनीस ऐप हैं जो 59 ऐप बेन हुई थी उन्हीं की क्लोनिंग ऐप है।

  • टिक टॉक की जगह टिकटोक लाइट चल रही थी।
  • शेयर इट की जगह शेयर इट लाइट चल रही थी।
  • इसी ब्राउज़र के जगह इसी ब्राउजर मिनी चल रहा था।
  • इसी तरह विगो लाइट हेलो लाइट कैमस्कैनर एडवांस और इसी तरह के 47 ऐप ऐसा था जो कि उन 59 एप का लाइटर वर्जन था जो अभी तक चल रहा था।

अब उन सभी को बैन कर दिया गया है हालांकि अभी आप प्ले स्टोर पर ऐप स्टोर पर जाकर के इन्हें सर्च करेंगे तो आपको देखने को जरूर मिल सकती है लेकिन जैसे ही गूगल और एप्पल के पास सरकार की आर्डर पहुंच जाती है तो इन सभी एप्लीकेशन को पहले एप्लीकेशन की तरह सभी ऐप स्टोर और प्ले स्टोर से हमेशा के लिए रिमूव कर दिया जाएगा।

इन सभी एप्स को भी सेक्शन 69 a ऑफ आईटी एक्ट के अंदर यूजर सिक्योरिटी और डिजिटल सिक्योरिटी वायलेशन करने के वजह से बैन किया गया है।

Important

इसके अलावा आपको यह भी बता दूं कि अगर आप पब जी मोबाइल गेम और अन्य चाइनीस मोबाइल गेम खेलते हैं तो सरकार के पास 250 ऐप की लिस्ट है जिनमें शायद पब्जी भी शामिल है और इन सभी ऐप की पड़ताल चल रही है और यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि यह जो ऐप है यूज़र की सिक्योरिटी और नेशनल सिक्योरिटी का वायलेशन तो नहीं करते और ऐसा पाया जाता है तो पब्जी समेत ढाई सौ ऐप पर बैन सुनने को मिल सकता है। हालांकि इन लिस्ट में कौन-कौन सी एप है शामिल है यह अभी कहना मुश्किल है यह तभी पता चल सकता है जब सरकार इनकी लिस्ट जारी करेगी।

Negative Impact

तो जनता की बात यह है कि अगर पबजी मोबाइल गेमिंग और अन्य चाइनीस गेमिंग एप बैन हो जाती हैं तो भारत की जो Kye गेमिंग इंडस्ट्री है,जिनमें पिछले कुछ सालों में काफी ज्यादा बूस्ट आया है उस पर इसका नेगेटिव इंपैक्ट जरूर पड़ेगा। यही नहीं भारत की कई यूट्यूब चैनल है जिनके मिलियंस ऑफ सब्सक्राइबर्स हैं केवल और केवल पब्जी लाइव स्ट्रीमिंग से चलते हैं उन पर भी असर पड़ेगा यही नहीं जो टेंशन गेम है और अन्य चाइनीज गेम कंपनियां हैं जिनके एंप्लॉय भारत में हैं उनकी नौकरियां भी खतरे में आ सकते हैं और लाखों लोग ऐसे हैं जो भारत में डेली पब्जी खेलते हैं तो इन्हें इस खबर से बुरा लग रहा है हालांकि उनके मां-बाप को इस बात से जरूर खुशी हो सकती हैं।

खैर इन एप्स को लेकर के कोई भी न्यूज़ आती है तो हम आपके साथ जरूर शेयर करेंगे। अगर आपको हमारी यह टेक न्यूज़ अच्छी लगी है तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर कीजिए तो चलिए मिलते हैं अगली टेक न्यूज़ के साथ तब तक के लिए जय हिंद वंदे मातरम्।

By Kuldeep Singh

My self Kuldeep Singh.I'm interested in technology.My wish is that all the things related to technology be told to all of you.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *